उत्तराखंड यात्रा गाइड: जानिए उत्तराखंड के कुछ अनछुऐ स्थान कौन से है?

उत्तराखंड यात्रा गाइड के माध्यम से आपको उत्तराखंड के कुछ अनछुऐ स्थान कौन से है? उनके बारे में जानना आवश्यकता है, उन स्थानों तक आप यात्रा कैसे करें और यात्रा में कितना खर्च आयेगा। उत्तराखंड को देवों की भूमि के रूप में जाना जाता है, उत्तराखंड में प्राकृतिक सौंदर्य, विशाल हिमालय, सुन्दर झीलों, पवित्र नदियों का संगम और निवास है।

उत्तराखंड यात्रा गाइड

राजधानी दिल्ली से निकटता होने के कारण, यहाँ प्रत्येक वर्ष काफी संख्या में भारतीय पर्यटक आते है जहाँ उन्हें एक पुनःजीवंत होने का अनुभव प्राप्त होता है। सभी नदियों में सर्वप्रथम पूजित पवित्र गंगा जिसकी उत्पति उत्तराखंड के हिमालय से ही होती है। हिंदुओं के लिए चार पवित्र तीर्थ स्थल - गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ भी यहाँ स्थित हैं।


उत्तराखंड यात्रा गाइड: उत्तराखंड के कुछ अनछुऐ स्थान कौन से है? 

अक्सर लोगों को दो यात्रा स्थलों में से किसी एक को चुनने के लिए भ्रमित होना पड़ता है: एक है उत्तराखंड और दूसरा है हिमाचल प्रदेश। दोनों के परिदृश्य में काफी समानता हैं लेकिन दोनों को अलग-अलग तरह के पर्यटक मिलते हैं। जहां हिमाचल प्रदेश एक छुट्टी को बिताने के लिये एक गंतव्य स्थान है, वही उत्तराखंड एक सांस्कृतिक और धार्मिक गंतव्य स्थान है।

अब हम उत्तराखंड यात्रा गाइड में आगे बढ़ते हुए, सबसे पहले उत्तराखंड में देखने योग्य शीर्ष स्थानों के बारे में बताने से पहले कुछ उपयोगी बातो पर चर्चा करते हैं।

सबसे पहले आप नैनीताल, मसूरी और देहरादून जैसे लोकप्रिय शहरों से बचें। क्योकि उत्तराखंड में इन शहरो के आलावा भी बहुत खूबसूरती है जो अभी तक अनछुई है। जो देखने वाले को मोह लेती है, और फिर वहाँ से लौटने का मन नहीं करता। उत्तराखंड के अधिकांश ट्रेक को एक्सप्लोर करने के लिये आपको स्थानीय पर्यटन अधिकारियों के अनुसार एक गाइड को किराए पर लेने की आवश्यकता होती है।

 

यहाँ गाइड प्रति दिन लगभग 1000 रुपए का चार्ज करते हैं। इसलिए आप अपने हिसाब से मोलभाव करें या आप सरकारी पर्यटन वेबसाइट पर सरकार द्वारा अनुमोदित कीमतों और इनसे सम्बंधित ऐसी कई अन्य उपयोगी जानकारीयो को भी प्राप्त कर सकते हैं।

हिमाचल प्रदेश के विपरीत, यहाँ कैम्पिंग के क्षेत्र अत्यधिक सीमित है। 2018 में उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को घास के मैदानो और घास के मैदानो में स्थित सभी स्थायी शिविरों को हटाने का आदेश दिया था। इससे अब अस्थायी शिविरों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। 

यह राज्य पूरे भारतीय हिमालय में कुछ सबसे क्रूर बारिश का गवाह भी है। यहाँ जून और अगस्त के महीने के मध्य, ऊंचे स्थानों पर भूस्खलन होना काफी आम बात हैं। इसलिये उत्तराखंड की यात्रा पर जाने से पहले मौसम विभाग की रिपोर्ट को अवश्य देखें।

चूंकि उत्तराखंड को देवतो की भूमि माना जाता है, इसलिये हिंदू धर्म पर्यटकों को यहाँ किसी भी प्रकार के मांस को खाने और शराब का सेवन करने से रोकता है। इसलिये इन दोनों का सेवन, विशेष रूप से चारो तीर्थ स्थलों (गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ) के लगभग 50 किमी के दायरे में असंभव कर दिया गया है। यहां पर कई ऐसे होटल और रेस्तरां है जो प्याज और लहसुन तक का प्रयोग भी नहीं करते हैं।

उत्तराखंड यात्रा गाइड: उत्तराखंड में देखने के लिए कुछ महत्वपूर्ण स्थान है

आइये उत्तराखंड यात्रा गाइड के तहत इन स्थानों के बारे में जानते है -

  • ऋषिकेश: भारत का योग और ध्यान का केंद्र

भारत में ऋषिकेश को योग का हब कहाँ जाता है। हर साल यहाँ हजारों देशी और विदेशी पर्यटक योग और ध्यान को सीखने के लिए ऋषिकेश में आते हैं। यहाँ पर योग और ध्यान को सिखाने लिए सैकड़ों योग विद्यालय स्थित हैं। यह शिवानंद जी का आश्रम भी है, जहाँ प्रतिवर्ष हजारों लोग योग सीखने और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के लिये आते है।

अगर आप यहाँ आध्यात्मिक अनुभव को प्राप्त करना चाहते तो उसके लिये आपको यही सुझाव है, कि यदि आप ऋषिकेश जा रहे हैं, और आपके पास 1 से 2 महीने का समय है, तो आप यहाँ अवश्य जाये। केवल एक चीज का ध्यान रखे है, यहाँ प्रवेश के लिये आपको भारतीय मूल का एक पुरुष होने की आवश्यकता है, क्योंकि शिवानंद आश्रम महिलाओं और गैर-भारतीय पुरुषों को स्वीकार नहीं करता है। 

इसलिये यहाँ जाने से पहले उनकी वेबसाइट को जरूर देखें। यहाँ पर 2 महीने के आवास, भोजन और पाठ्यक्रम की सुविधा मुक्त है।

उत्तराखंड यात्रा गाइड

ऋषिकेश में यात्रियों के लिये ऐसे कई आदर्श स्थान है; जहॉ खाने पीने, और बजट में रहने के लिए सुविधाए उपलब्ध है, यहाँ आप अपने हॉलिडे का आनंद ले सकते है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

 

यदि आप लक्ष्मण झूला के पास रुकने के लिये कोई होटल या गेस्ट हाउस प्राप्त करना चाहते है तो यह याद रखें की यह पूरे शहर का सबसे अच्छा क्षेत्र माना जाता है। इसके लिये सबसे पहले आप होटल और गेस्ट हॉउस की जाँच इंटरनेट पर जरूर कर ले या उत्तराखंड की वेब साईट पर ऋषिकेश यात्रा गाइड और उससे सम्बंधित चीजों का अध्यन अवश्य कर ले।

  • ऑली हिल स्टेशन 

उत्तराखंड में एक्सप्लोर करने के लिए ऊंचे स्थानों की सूची में औली है। भारत में स्कीइंग या सनोबोअर्डिंग को सीखने के लिए औली नई दिल्ली से निकटतम स्थानो में से एक है। औली में स्कीइंग का पाठ्यक्रम दुनिया में सबसे सस्ते में उपलब्ध हैं। 

आपके भोजन और रहने की सुविधा सहित शुरुआती स्तर के लिये 6 दिन का कोर्स ₹ 15,000 से अधिक नहीं है। शहरी चहल पहल के अलावा एक लंबी पैदल यात्रा, कार की सवारी, कई ट्रैकिंग मार्ग और ऐसी अन्य साहसिक गतिविधियों के लिये यह शिविर उपयुक्त हैं। यहाँ पर बिताया हर पल अविस्मरणीय होता है। औली ऋषिकेश से लगभग 8 से 10 घंटे की ड्राइव पर स्थित है।

उत्तराखंड यात्रा गाइड

  • चार धाम यात्रा 

उत्तराखंड की धार्मिक स्थलों की यात्रा में गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ चार पवित्र स्थल सबसे अधिक लोकप्रिय हैं। हर साल अप्रैल / मई से अक्टूबर / नवंबर के बीच यह चार गंतव्य स्थान उत्तराखंड में देखने के लिए सबसे अधिक यात्रियों के लिये श्रद्धा का केंद्र है जो काफी ऊंचाई पर स्थित हैं। जहाँ गंगोत्री और बद्रीनाथ धाम मंदिर के लिए आप कार या बस से जा सकते है, वहीं यमुनोत्री और केदारनाथ धाम मंदिर तक पहुँचने के लिए, आपको क्रमशः 5 किमी और 16 किमी पैदल चलने की आवश्यकता पड़ती है।

  • मुनस्यारी रोड ट्रिप

हिमाचल और लद्दाख के विपरीत, जहां आपके पास स्पीति वैली, मनाली से लेह और सच पास रोड ट्रिप जैसी कई लोकप्रिय एडवेंचर मोटरसाइकिल ट्रायल हैं, वही उत्तराखंड में ऐसी कोई नहीं हैं। हालाँकि, आप ऊपर बताए गए चार धाम स्थानों में से किसी एक पर जा सकते हैं, लेकिन आपको वह एन्जॉय नहीं मिलेगा, स्वाभाविक रूप से यह यात्रा आपको थोड़ी अधूरी महसूस होगी। यहां इस तरह की ट्रिप के लिये सभी जगहों में से, दिल्ली से मुनस्यारी ही एकमात्र मार्ग है, जहाँ पर लोग अवकाश और एडवेंचर के लिए यात्रा करते हैं, यह उत्तराखंड में मोटरसाइकिल यात्रा के लिये का एकमात्र मार्ग है।

  • दारमा घाटी

यह स्थान पूर्व में नेपाल सीमा के ठीक बगल में स्थित है, और यह रास्ता तिब्बत तक जाता है, यह अधिकतर पर्यटकों के लिये पसंदीदा स्थल है। भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार, दारमा घाटी वह स्थान है, जहाँ पांडवों ने स्वर्ग में जाने से पहले पंचाचूली की पांच चोटियों पर अपना अंतिम भोजन पकाया था। 'पंचचूली' या 'पंच चूली' का शाब्दिक अर्थ है 'पांच-बिंदु वाला ओवन'। लोकप्रिय पंचाचूली बेस कैंप ट्रेक भी दारमा घाटी में ही स्थित है।

उत्तराखंड यात्रा गाइड

  • कालागढ़ और जिम कॉर्बेट

यदि आप वन्यजीव प्रेमी हैं, तो जिम कॉर्बेट और कालागढ़ के राष्ट्रीय उद्यान, जो नई दिल्ली के बहुत करीब स्थित हैं। यहाँ आप वन्य जीवन का अनुभव प्राप्त कर सकते है। यहाँ पर रहने और खाने पीने की अच्छी सुविधाए उपलब्ध है।

  • फूलों की घाटी

अगर आप कल्पना करे भूमि पर फैले हुए रंगो की - तो इसका सक्षेप में एक ही उत्तर है, और वह है फूलों की घाटी, चूंकि यह जगह फूलों के बारे में है, इसलिये यह केवल मानसून के दौरान जून और सितंबर के महीने के बीच में ही पर्यटकों के लिए खुला रहता है। 

फूलो की घाटी तक पहुँचने के लिए, आपको कुछ दूर तक ट्रेक करने की ज़रूरत पड़ती है जो आपको अल्पाइन के फूलों की आकर्षक घास के मैदानों के माध्यम में ले जाता है, जो अंकुरित लाल रंग, पर्पल और येल्लो रंग से बिखरा रहता है। वैली ऑफ फ्लॉवर्स ट्रेक को स्पष्ट रूप से पूरे भारतीय हिमालय क्षेत्र का सबसे सुंदर ट्रेक कहा जाता है। वैली ऑफ फ्लावर्स ट्रेक यूनेस्को की विरासत मान्यता प्राप्त नेशनल पार्क है।

उत्तराखंड यात्रा गाइड

  • गोमुख ट्रेक

गोमुख भागीरथी नदी का स्रोत है, जो गंगा की एक महत्वपूर्ण सहायक नदी है। यदि आप उत्तराखंड में ट्रैकिंग की योजना बना रहे हैं, तो गंगोत्री गोमुख ट्रेक पूरी तरह से इस योग्य है। यह चार धाम मार्ग पर स्थित है, लेकिन तीर्थ यात्रा का हिस्सा नहीं है। 

गंगोत्री गोमुज ट्रेक की यात्रा काफी आसान है और इसे 2 से 3 दिनों में किया जा सकता है। इसके लिये आप एक गाइड को किराए पर ले सकते हैं या फिर अपने दम पर जा सकते हैं, हालांकि इसके लिये एक गाइड की सिफारिश की जाती है, क्योंकि यहाँ पर समय की चाल थोड़ा भ्रमित करती है।

इस आर्टिकल के माध्यम से उत्तराखंड में देखने लायक कुछ अनछुए शीर्ष स्थान का उल्लेख किया है। अब इससे सम्बंधित कुछ और तथ्य जैसे यात्रा का खर्च घूमने का सबसे अच्छा समय।

उत्तराखंड यात्रा गाइड: उत्तराखंड की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

ऋषिकेश और औली के लिए, यात्रा करने का आदर्श समय नवंबर से मार्च के सर्दियों के महीने हैं। ऊंचाई वाले अन्य पर्यटन स्थलों के लिए, सबसे अच्छा समय अप्रैल और जून या सितंबर और अक्टूबर के बीच होता है। मानसून (फूलों की घाटी को छोड़कर) यात्रा करने के लिए सबसे खराब समय है।

  • खाना पीने की सुविधा 

उत्तराखंड में खाना काफी सस्ता है। और अगर यदि आप एक फिक्स बजट पर हैं तो बस किसी भी सस्ते से दिखने वाले होटल में जाएं और 'थली' के विषय में पूछें। यहाँ सभी भारतीय भोजन जैसे चावल, रोटी, दाल और कुछ मिक्स सब्ज़ी उपलब्ध होती है - ये सभी ₹ 70 रूपए की कीमत में (सामान्य रूप से) उपलब्ध हो जाता है। एक अच्छे होटल या ढाबे में बेहतर भोजन के लिए, प्रति व्यक्ति लगभग ₹150 तक का भुगतान करना पड़ सकता है।

  • होटल या गेस्ट हॉउस 

यहाँ पर आप किसी भी मौसम में लगभग ₹ 300 से ₹1000 तक ज्यादातर जगहों पर एक निजी कमरा ले सकते हैं। 

अंत में
 

इस उत्तराखंड यात्रा गाइड आर्टिकल के माध्यम से उत्तराखंड के कुछ खूबसूरत और एडवेंचर उच्च स्थानों के बारे में बताने का प्रयास किया गया है। अगर इन विषयो से सम्बंधित आपके कोई सुझाव हो तो, उसके लिये आपका स्वागत है। आपके सुझावों को इस लेख में अवश्य सम्मलित किया जायेगा।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

HindiWebBook

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Post a Comment

Plz do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post