Air Conditioner (AC) की Capacity को Ton में क्यों मापा जाता है?

AC की Capacity को Ton में क्यों मापा जाता है? क्या आप इस प्रश्न का उतार जानते है अगर नहीं तो आज हम इसी विषय पर बात करेंगे की क्या कारण है हम हमेशा AC को टन में ही बताते है। आपका Air Conditioning सिस्टम आपके घर या ऑफिस को गर्मी के महीनों में ठंडा रखता है लेकिन क्या आप जानते है, कि आपका AC और आपका Refrigerator दोनों एक ही तरह से काम करते हैं। अंतर सिर्फ इतना है, कि Refrigerator एक छोटे कवर्ड स्थान को ठंडा करता है, और AC घर, कार्यालय या Commercial स्थान को आरामदायक तापमान पर बनाये रखता है।
Air Conditioner (AC) की Capacity को Ton में क्यों मापा जाता है

Air Conditioner एक प्रकार की केंद्रीय हीटिंग और Central Cooling System का एक हिस्सा होता है जो घर के बाहर से गर्म ऊर्जा को खींचता है और इसे स्थानांतरित करता है। यदि सीधे शब्दों में कहें, तो AC में एक Central Heating और Cooling System होता है, जो मेटल शीट डक्टवर्क के माध्यम से ठंडी हवा को प्रदान करता है, इस प्रक्रिया में यह गर्म हवा को अंदर खींचता है, और फिर उसकी गर्मी को निकालता है, और इसे ठंडी हवा में परिवर्तित करता है।

{tocify} $title={विषय सूची}

आपके घर या ऑफिस में एक आरामदायक तापमान पर हवा को ठंडी बनाये रखना यह सब प्रक्रिया एक बहुत ही सरल वैज्ञानिक सिद्धांत पर आधारित होती है। इस प्रक्रिया को आपको बड़े ही सरल शब्दों में बताने के प्रयास करेंगे और साथ ही यह कोशिश होगी की आप यह भी समझ सके की AC में टन क्या होता है? क्यों AC की इकाई को टन में ही बताया जाता है।

Air Conditioner (AC) की Capacity को Ton में क्यों मापा जाता है? Why is the capacity of an Air Conditioner (AC) measured in Tons?

गर्मी के मौसम में गर्मी से लड़ने के लिए हम एयर कंडीशनर का उपयोग करते हैं। जो गर्मियों में एक आराम दायक सुकून का एहसास कराता है। लेकिन क्या आपने कभी Air Conditioner के निर्देशो को पढ़ा होगा तो अपने यह पाया होगा कि इसकी ठंडा करने की Capacity को Ton में लिखा जाता है, न कि किलोवॉट या किसी और मात्रा में। यह Ton में ही क्यों मापी जाती है, कभी ना कभी यह प्रश्न हमारे मष्तिष्क में अवश्य ही आया होगा, जिसका आज हम उत्तर ढूढ़ने का प्रयास करेंगे। 

Air Conditioner (AC) की Capacity को Ton में क्यों मापा जाता है

तो चलिए इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको Air Conditioner (AC) की क्षमता को टन में क्यों मापा जाता है, इसके पीछे का क्या तर्क है उसे बताने का प्रयास करते है।

जब भी हम Air Conditioner की बात करते है तो हम उसकी क्षमता को टन में ही मापते है, यहाँ टन का प्रयोग करना ऐसा लगता है जैसे हम किसी बहुत भारी वस्तु की बात कर रहे हो। जबकि इसके विपरित एयर कंडीशनर आकर में बहुत छोटा होता है। जबकि वास्तव में Air Conditioner का टन या भार से कोई लेना-देना नहीं होता।

यहाँ पर टन का उपयोग केवल यह बताने के लिए किया जाता है कि एयर कंडीशनर 1 घंटे में, एक कमरे से कितनी गर्मी को निकल रहा है। पहले के समय में, एक कमरे को ठंडा करने के लिए प्राकृतिक बर्फ का उपयोग किया जाता था। यानिकि 24 घंटे में 1 टन बर्फ से एक कमरे में हम जितनी ठंडक पैदा होती हैं, उसी मापदंड के आधार पर AC यूनिट्स को टन में मापा जाता है।

जब, Air Conditioner का आविष्कार किया गया और यह पाया गया की बर्फ के ठंडा करने की क्षमता और Air Conditioner के ठंडा करने क्षमता दोनों आपस में मेल खाती है। तो इसका मतलब यह हुआ है कि 1 टन बर्फ से हमें जो ठंडक मिलती है, वह 1 टन के AC द्वारा उत्पन्न की गई ठंडक के बराबर होती है। इसलिए अगर हम एक कमरे में 1 टन बर्फ और दूसरे कमरे में 1 टन का Air Conditioner रख दे, तो दोनों की ठंडक समान होगा।

Air Conditioner (AC) की Capacity को Ton में क्यों मापा जाता है

AC की कैपेसिटी को ब्रिटिश प्रणाली के अनुसार कैलकुलेट करना। Calculating the capacity of AC according to the British system.  

अब हम जानेगे कि FPS (ब्रिटिश यूनिट) प्रणाली में Air Conditioner द्वारा कितनी गर्मी को अवशोषित किया जाता है। FPS System में, 1 टन 2000 lb (यहाँ lb पौंड पाउंड का प्रतीक है) के बराबर होती है। बर्फ की अव्यक्त गर्मी (Latent Heat) 144 BTU / lb (BTU ब्रिटिश थर्मल यूनिट) होती है। इसका मतलब यह है कि जब 1 पाउंड बर्फ पिघलने लगती है, तो वह 144 BTU Heat को अवशोषित (Absorb) करती है। तो 1 टन बर्फ या एक AC 1 दिन में 2000 × 144 = 2,88,000 BTU गर्मी को Absorb करता है।

अब हम 1 घंटे में गर्मी के अवशोषण (Absorb) को प्राप्त करने के लिए उपरोक्त Heat को 24 से विभाजित करते हैं। 2,88,000 ÷ 24 = 12,000 BTU / घंटा। इसका मतलब है कि 1 टन का Air Conditioner या 1 टन बर्फ 1 घंटे में 12,000 BTU Heat को अवशोषित (Absorb) करता हैं। इसी तरह, 4 टन का एयर कंडीशनर 1 घंटे में 4 × 12,000 = 48,000 BTU गर्मी को अवशोषित (Absorb) करता है। इसलिए, एयर कंडीशनर के टन में वृद्धि के साथ-साथ, उसकी अधिक गर्मी को अवशोषण (Absorb) करने की क्षमता भी बढ़ती जाती है और इसलिए यह अधिक हवा को ठंडा कर सकता है। 

अलग-अलग कमरे के आकर के हिसाब से हमे अलग-अलग Ton के Air Conditioner की आवश्यकता होती है, क्योंकि सभी स्थानों में एक कमरे का आकार समान नहीं होता है। इसलिए, बड़े कमरे को छोटे कमरे की तुलना में अधिक Ton के Air Conditioner की आवश्यकता होती है।

अंत में निष्कर्ष 

हमनें इस लेख के माध्यम से आपको "Air Conditioner (AC) की Capacity को टन में क्यों मापा जाता है?" के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने प्रयास किया गया है, हमे पूरी उम्मीद है यह जानकारी आपके लिये काफी उपयोगी साबित होगी यदि इस आर्टिकल से सम्बन्धित आपके पास कोई सुझाव हो तो कमेंट बाक्स के माध्यम से आप उसे हम तक पंहुचा सकते है। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद! 

HindiWebBook

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Post a Comment

Plz do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post