धन को आकर्षित करने के सटीक वास्तु टिप्स क्या है?

धन को आकर्षित करने के सटीक वास्तु टिप्स क्या है? क्योकि धन हमारे जीवन की सबसे बड़ी आवश्यकता है, क्योकि इसके बिना किसी के लिये भी अपने जीवन को सहज तरीके से जीना संभव नहीं है। धन कमाने के लिये कर्म करना तो आवश्यक है ही लेकिन इसके साथ ही कुछ ऐसी चीजे होती है जो हमारे कर्म का पूर्ण फल दिलाने में साहयक होती है। इसे हम सकारात्मक ऊर्जा कहते है और इसी सकारात्मक ऊर्जा को ग्रहण करने के लिए हमे वास्तु शास्त्र के विशेष सुझावों को अपनाना चाहिये।  

धन को आकर्षित करने के सटीक वास्तु टिप्स

वास्तु शास्त्र कोई तंत्र नहीं है यह भी एक विज्ञानं है जिसे हमारे प्राचीन ऋषि मुनियो ने अपने ज्ञान और तप के द्वारा सिद्ध किया था। हम अपने जीवन में ऐसे ही कुछ वास्तु टिप्स को अपनाकर धन को आकर्षित कर सकते है। धर्म शास्त्रों के अनुसार धन के एकमात्र स्वामी भगवान कुबेर है जो सभी प्रकार की समृद्धि को प्रदान करते है। इसलिये धन के लिये कुबेर देव को प्रसन्न करना जरुरी है।

धन को आकर्षित करने के सटीक वास्तु टिप्स - Accurate Vastu Tips to Attract Money 

वास्तु शास्त्र में ऐसे बहुत से नियम है जिनका पालन करके हम सकारात्मक ऊर्जा को आवाहन कर सकते है। इसके लिये बस आपको केवल इतना करना है की आप वास्तु के इन सिद्धांतो को श्रद्धा और विश्वास के साथ अपनाये ताकि इनका प्रभाव आपको देखने को मिले। धन को आकर्षित करने के लिए ये दिशा-निर्देश धन के प्रवाह को सुविधाजनक बनाते हैं और धन को प्राप्त करने में आ रही बाधा को रोकते हैं।

इसके लिये आपको केवल यह सुनिश्चित करना है कि आप इन सिद्ध, सटीक और विशेष रूप से चयनित नियमो का पूरी ईमानदारी से पालन करे तो यह निश्चित रूप से आपकी धन को प्राप्त करने की अभिलाषा को पूर्ण करेगा।

तो चलिये यहाँ आपको बताते है कुछ ऐसे ही सटीक और सिद्ध वास्तु नियम:

  • किसी भी घर या कार्यालय के दक्षिण-पश्चिम कोने में कोई भी सामान्य स्विमिंग पूल धरती के सामान्य स्तर की तुलना में निचे न बनाये, प्रयास करे की जल से सम्बंधित कोई भी काम इस दिशा में ना हो।

  • कैश को रखने के लिये लॉकर या अलमीरा को दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा की दीवार के पास इस प्रकार से रखें ताकि उसका मुँह उत्तर दिशा की और खुले। उत्तर दिशा को भगवान कुबेर की दिशा कहते है, इसलिये उत्तर दिशा में लॉकर या अलमारी को बार बार खोलने से कुबेर देव उसे भरने की अनुमति मिलती है। कैश लॉकर या अलमारी को किसी अन्य दिशा में रखने से बचें।

  • कभी भी, किसी भी परिस्थिति में, कैश के लॉकर या अलमारी को जिसमे आप धन रखते है उसे किसी भी बीम के नीचे नहीं रखें क्योंकि ऐसा होने पर उस परिवार या व्यवसाय पर बहुत अधिक वित्तीय दबाव पड़ने लगता है।

  • धन को आकर्षित करने के लिये आप अपने कैश लॉकर या अलमारी के सामने एक दर्पण को अवश्य रखें इससे दर्पण में कैश लॉकर या अलमारी की एक छवि दिखाई देगी। ऐसा करने से आपका धन दोगुना होने लगता है।

  • उत्तर-पूर्व दिशा में पड़ने वाले हिस्से को हमेशा सुव्यवस्थित रखे और उसे हर समय खुला रखे इससे धन आपकी ओर आकर्षित होने लगता है। इस हिस्से कभी भी सीढ़ी नहीं बनानी चाहिये। इसी तरह नॉर्थ-ईस्ट दिशा के कोने में कभी भी किसी तरह की कोई भी भारी मशीनरी आदि नहीं रखें।

  • कभी भी अपने प्लाट या घर ना ख़रीदे जिसकी नार्थ-ईस्ट दिशा के सामने कोई ऊंची इमारत या मंदिर आदि हो ऐसा करने से बचे क्योंकि ऐसा होने पर इससे धन की हानि होने लगती है। यदि ऐसी किसी भी स्थिति से बचना संभव ना हो तो यह सुनिश्चित करे की उस ऊंची इमारतें या मंदिर आदि की छाया आपके घर या प्लाट पर न पड़े।

  • अपने मकान की बाउंड्री वॉल को नॉर्थ-ईस्ट दिशा के कॉर्नर में कभी भी घुमावदार दीवार को नहीं बनाएं। इसे हमेशा समकोण ही बनाये।

  • अपने मकान की छत के दक्षिण-पश्चिम हिस्से को हमेशा नॉर्थ-ईस्ट के हिस्से से ऊंचा रखना चाहिये। इसे हम दूसरे शब्दों में कहे तो, हमेशा अपने भवन की छत को दक्षिण-पश्चिम से नार्थ-ईस्ट की तरफ ढलान देना चाहिए।

  • यह सुनिश्चित करें कि आपके घर के दक्षिण और पश्चिम दिशा में आने वाली दीवारें उत्तर और पूर्व दिशा में आने वाली दीवारों की तुलना में ऊंची और मोटी होनी चाहिये हैं।

  • हमेशा ऐसे भूखंड या प्लाट खरीदें जो उसके सामने आने वाली सड़कों की तुलना में सामानांतर या फिर ऊंचा हों। कभी भी ऐसा भूखंड या प्लॉट नहीं खरीदना चाहिए जो सड़क की तुलना में निचा।

  • हमेशा अपने प्लाट या मकान के दक्षिण-पश्चिम हिस्से में बड़े और विशाल पेड़ लगाने चाहिये, इससे वास्तु के अनुसार, उस परिवार में धन स्थिर रहता है। यह आपके परिवार और व्यवसाय को दुर्भाग्य और दुर्घटना से भी बचता है।

  • अपने प्लॉट या मकान के उत्तर-पूर्व दिशा की तरफ कभी भी बड़े और ऊंचे पेड़ नहीं लगाने चाहिये क्योंकि इससे धन का संचार बाधित होने लगता है।

  • हमेशा अपने घर के केंद्र स्थान को मुक्त क्षेत्र के रूप में रखना चाहिये। घर के इस हिस्से में कभी भी कोई भी निर्माण (केवल मंदिर को छोड़कर) नहीं करना चाहिए क्योंकि यह स्थान ब्रह्मस्थान होता है। यहाँ पर घर की सकारात्मक ऊर्जा केंद्रित होती है। 

  • स्टोर रूम के रूप में हमेशा से साउथ-वेस्ट या पश्चिम दिशा का ही प्रयोग करना चाहिये।

  • अपने घर के सभी दरवाजे और खिड़कियो को हमेशा साफ रखें। यदि वे गंदे रहते हैं तो उससे धन का प्रवाह बाधित होने लगता है।

  • घर में किसी भी जगह से या किसी भी नल से पानी का रिसाव नहीं होना चाहिये क्योकि इससे वास्तु के अनुसार धन की हानि होने लगती है।

  • घर के उत्तर-पूर्व हिस्से में हो सके तो पानी का एक फव्वारा अवश्य रखें, तथा इस बात का ध्यान रखे कि उस फव्वारे में पानी हमेशा बहता रहे; क्योकि पानी की गति हमेशा सकारात्मक ऊर्जा और धन के प्रवाह को दर्शाती है।

  • अपने घर के हॉल या लिविंग रूम के नॉर्थ-ईस्ट हिस्से में एक फिश एक्वेरियम को अवश्य रखें, तथा फिश एक्वेरियम को हमेशा साफ रखें, इससे घर  सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। 

  • अपने घर के मुख्य या प्रवेश द्वार को हमेशा साफ सुथरा और सजाना चाहिये जिससे समृद्धि और धन आसानी से आकर्षित हो सके। घर के प्रवेश द्वार को सुंदर बनाये रखें। 

  • अपने प्लॉट के आंगन में पक्षियों को पानी और अनाज खिलाने के लिये किसी स्थान को अवश्य सुनिश्चित करें, इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा और धन आकर्षित होता है।

  • बैंगनी रंग को मुख्य रूप से धन के रूप में दर्शाया जाता है, इसलिए घर में कोई भी बैंगनी रंग का पौधा अवश्य रखें। अगर बैंगनी रंग का पौधा मिलने में मुश्किल हो रही है तो एक गमले में बैंगनी रंग से पेंट करकर उसमे मनी प्लांट को अवश्य लगाये।

यदि आप वास्तु के इन सिद्धांतो का श्रद्धा और विश्वास के साथ पालन करते है तो निश्चित रूप से आप धन सम्बन्धी समस्याओं पर काफी हद तक काबू पा सकते है इसलिये इन दिशानिर्देशों का अवश्य पालन करें।

HindiWebBook

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

2 Comments

Plz do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post