4-स्ट्रोक इंजन क्या है? और यह कैसे काम करता है?

अक्सर हम जब भी किसी वाहन का जिक्र करते है तो उसमे लगे 4-स्ट्रोक इंजन की बात जरूर करते है, लेकिन यह 4-स्ट्रोक इंजन क्या है यह नहीं जानते, चलिए इसे जानते है। मोटरसाइकिल और कारों से लेकर लॉन मोवर और जनरेटर तक में, 4-स्ट्रोक इंजन विभिन्न प्रकार के उपकरणों को शक्ति प्रदान करते हैं।

4-स्ट्रोक इंजन प्रभावी ढंग से चलने के लिए चार अलग-अलग पिस्टन स्ट्रोक का उपयोग करते है। चाहे आप वर्तमान में क्षेत्र में काम कर रहे हों या तकनीशियन बनने पर विचार कर रहे हों, या आप एक साधारण वयक्ति है यह समझना 4-स्ट्रोक इंजन क्या है और यह कैसे काम करता है निश्चित तौर पर आपके ज्ञान में वृद्धि करेगा।

तकनीशियन नियमित रूप से विभिन्न प्रकार के इंजनों के साथ काम करते हैं, और उनके अंतरों को जानना ही उनके लिए सफलता की कुंजी है। यदि आप सचमुच यह जानना चाहते हैं की, "4-स्ट्रोक इंजन क्या है?" तो यह आर्टिकल आपके लिए है। यह जानने के लिए इसे पढ़ते रहें।

4-स्ट्रोक इंजन क्या है? What is 4-Stroke Engine in Hindi?

4-स्ट्रोक इंजन एक आईसी इंजन है जो अपने एक कार्य चक्र को पूरा करने के लिए पिस्टन के चार स्ट्रोक का उपयोग करता है। यह पिस्टन के ऊपर और नीचे की ओर गति के कारण ईंधन की थर्मल एनर्जी को आवश्यक मेकैनिकल वर्क में परिवर्तित कर देता है। 

इसलिए, 4-स्ट्रोक इंजन को रिसीप्रोकेटिंग इंजन (जो आगे और पीछे मूवमेंट करता है) की श्रेणी में रखा जाता है। इस रिसीप्रोकेटिंग इंजन में पिस्टन के ऊपर और नीचे की गति के कारण कम्प्रेशन प्रक्रिया होती है।

4-स्ट्रोक इंजन क्या है?


एक 4-स्ट्रोक इंजन क्रैंकशाफ्ट के दो चक्कर और पिस्टन के 4 स्ट्रोक के पूरा होने के बाद अपने एक शक्ति चक्र को पूरा करता है। 4-स्ट्रोक इंजनों का उपयोग विभिन्न प्रकार के वाहनों जैसे हल्के ट्रकों, बसों, वैन, कारों आदि में व्यापक रूप से किया जाता है।

जहाँ तक 4-स्ट्रोक इंजन क्या है इसकी बात है, तो यह 4-स्ट्रोक डीजल इंजन और 4-स्ट्रोक गैसोलीन इंजन (जिन्हें 4-स्ट्रोक पेट्रोल इंजन भी कहा जाता है) के रूप में भी उपलब्ध हैं।

  • 4-स्ट्रोक डीजल इंजन 

4-स्ट्रोक डीज़ल इंजन हवा/ईंधन के मिश्रण को ऊर्जा में परिवर्तित करने के लिए बहुत हाई कम्प्रेशन के अनुपात पर काम करता है। 

  • 4-स्ट्रोक पेट्रोल इंजन 

4-स्ट्रोक पेट्रोल इंजन वायु/ईंधन के मिश्रण को ऊर्जा में परिवर्तित करने वाले स्पार्क प्लग के कारण ईंधन को जलाना शुरू करता है।

4-स्ट्रोक पेट्रोल इंजन और 4-स्ट्रोक डीजल इंजन में क्या अंतर है? What is Difference between 4-Stroke Petrol Engine and 4-Stroke Petrol Diesel in Hindi? 

 4-स्ट्रोक पेट्रोल इंजन

 4-स्ट्रोक डीजल इंजन

यह इंजन ओटो साइकिल के आधार पर काम करता है।

यह डीजल इंजन के आधार पर काम करता है। 

इस इंजन में, स्पार्क प्लग द्वारा प्रदान की गई चिंगारी के कारण इग्निशन प्रक्रिया होती है।

इस इंजन में, वायु-ईंधन मिश्रण के हाई कंप्रेशन के कारण इग्निशन प्रक्रिया होती है। 

यह काम कर रहे तरल पदार्थ के रूप में पेट्रोल या गैसोलीन का उपयोग करता है।

इसमें डीजल का इस्तेमाल होता है। 

यह इंजन लैस एफिसिएंट है। 

यह मोर एफिसिएंट है।

इसका कंप्रेशन अनुपात कम है। 

इस इंजन में हाई कंप्रेशन अनुपात है।

यह लैस अमाउंट ऑफ़ फ्यूल का उपयोग करता है।

यह लौ अमाउंट ऑफ़ फ्यूल का उपयोग करता है।

इन इंजनों का उपयोग ज्यादातर छोटे अनुप्रयोगों जैसे बाइक, मोटरसाइकिल और जनरेटर आदि में किया जाता है।

इन इंजनों का उपयोग ज्यादातर भारी शुल्क वाले अनुप्रयोगों जैसे बसों, ट्रकों और वैन आदि के लिए किया जाता है। 


4-स्ट्रोक इंजन कैसे काम करता है? How Does 4-Stroke Engine Works in Hindi? 

4-स्ट्रोक इंजन क्या है इसके कांसेप्ट को समझने के बाद यह जानते है की 4-स्ट्रोक इंजन कैसे काम करता है। किसी भी उपकरण को प्रभावी ढंग से ऊर्जा देने के लिए, 4-स्ट्रोक इंजन कुछ चरणों को पूरा करते हैं और फिर उन्हें दोहराते हैं, जिनका वर्णन निचे किया गया है-

  • सक्शन / इंटेक स्ट्रोक

इंटेक स्ट्रोक तब शुरू होता है जब ऊर्जा कक्ष में वायु-ईंधन का मिश्रण पेश होता है। इस स्ट्रोक में, पिस्टन TDC (टॉप डेड सेंटर - पिस्टन की क्रैंकशाफ्ट की सबसे दूर की स्थिति) से BDC (बॉटम डेड सेंटर - क्रैंकशाफ्ट के लिए पिस्टन की निकटतम स्थिति) की ओर बढ़ता है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

जब पिस्टन की गति BDC की ओर होती है जहाँ सिलेंडर में कम दबाव का क्षेत्र है। तब इनलेट वाल्व बीडीसी के बाद क्रैंकशाफ्ट रोटेशन के कुछ डिग्री खुलने तक रहता है। उसके बाद इंटेक वाल्व बंद हो जाता है और सिलेंडर में वायु-ईंधन के मिश्रण को सील कर दिया जाता है।

प्रमुख बिंदु

  1. इनलेट वाल्व - ओपन
  2. आउटलेट वाल्व - बंद
  3. क्रैंकशाफ्ट रोटेशन - 1800

  • कंप्रेशन स्ट्रोक

कंप्रेशन स्ट्रोक में, सील हुए वायु-ईंधन के मिश्रण को सिलेंडर के अंदर कंप्रेस्ड किया जाता है। स्ट्रोक के दौरान, पिस्टन वायु-ईंधन के मिश्रण को कंप्रेस करते हुए बीडीसी से टीडीसी की ओर बढ़ता है। जहाँ फ्लाई व्हील की गति पिस्टन को आगे बढ़ने में मदद करती है।

4-स्ट्रोक इंजन क्या है?

वायु-ईंधन के मिश्रण को कंप्रेस करने से वह प्रज्वलित होकर अधिक ऊर्जा को निकलता है। यानिकि कंप्रेशन कक्ष के अंदर सील वायु-ईंधन का मिश्रण कंप्रेस्ड होने से ऊर्जा में बदलने के लिए तैयार है। यहाँ इनलेट और आउटलेट वाल्व को दोनों बंद होकर यह सुनिश्चित करते है कि सिलेंडर पूरी तरह सील है जिसके परिणामस्वरूप कंप्रेशन शुरू होता है।

प्रमुख बिंदु

  1. इनलेट वाल्व - बंद
  2. आउटलेट वाल्व - बंद
  3. क्रैंकशाफ्ट रोटेशन - 1800 (कुल 3600)

  • पावर/कंबसंन (Combustion) स्ट्रोक

क्रैंकशाफ्ट का दूसरा चक्र तब शुरू होता है जब यह कंप्रेशन स्ट्रोक के दौरान एक पूर्ण चक्र पूरा करता है। पावर स्ट्रोक तब होता है जब स्पार्क प्लग की मदद से कंप्रेस्ड वायु-ईंधन के मिश्रण को प्रज्वलित किया जाता है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है

प्रज्वलन या तीव्र ऊर्जा, मुख्यत ऑक्सीकरण करने वाली एक रासायनिक प्रतिक्रिया है जिसमें एक ईंधन रासायनिक रूप से वातावरण में ऑक्सीजन के साथ जुड़ता है और गर्मी के रूप में ऊर्जा को निकालता है। यहाँ गर्म विस्तार करने वाली गैसें पिस्टन हेड को सिलेंडर हेड से दूर करने के लिए मजबूर करती हैं।

प्रमुख बिंदु

  1. इनलेट वाल्व - बंद
  2. आउटलेट वाल्व - बंद
  3. क्रैंकशाफ्ट रोटेशन - 1800 (कुल 5400)

  • एग्जॉस्ट स्ट्रोक

जैसे ही पावर स्ट्रोक के दौरान पिस्टन बीडीसी तक पहुंचता है, ऊर्जा का दहन पूरा हो जाता है और सिलेंडर निकास गैसों से भर जाता है। इस स्ट्रोक के दौरान एग्जॉस्ट वॉल्व खुलते हैं और फ्लाईव्हील और अन्य मूविंग पार्ट्स की धुरी जो पिस्टन को टीडीसी में वापस धकेलती है, जिससे एग्जॉस्ट गैसों को ओपन एग्जॉस्ट वॉल्व के माध्यम से प्रेसराइज (दबाव) किया जाता है।

इस एग्जॉस्ट स्ट्रोक के अंत में, पिस्टन वापस टीडीसी पर आ जाता है और एक ऑपरेटिंग चक्र पूरा हो जाता है।

प्रमुख बिंदु

  1. इनलेट वाल्व - बंद
  2. आउटलेट वाल्व - खुला
  3. क्रैंकशाफ्ट रोटेशन - 1800 (कुल 7200)

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न 

4-स्ट्रोक इंजन का क्या अर्थ है?

एक इंजन जो पिस्टन के चार स्ट्रोक में पावर स्ट्रोक को पूरा करता है उसे 4-स्ट्रोक इंजन के रूप में जाना जाता है।

4-स्ट्रोक इंजन के उदाहरण क्या हैं?

ट्रक, बस, डर्ट बाइक, वैन, ट्रैक्टर और अन्य भारी वाहनों जैसे भारी अनुप्रयोगों में फोर-स्ट्रोक इंजन का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है।

4-स्ट्रोक इंजन के पार्ट्स क्या-क्या हैं?

चार स्ट्रोक इंजन के पार्ट्स हैं:

1.) पिस्टन

2.) क्रैंकशाफ्ट

3.) क्रैंकशाफ्ट

4.) कनेक्टिंग छड़

5.) इनलेट और आउटलेट वाल्व

6.) स्पार्क प्लग

कौन सा इंजन भारी है? 2-स्ट्रोक इंजन या 4-स्ट्रोक इंजन?

4-स्ट्रोक इंजन का वजन 2-स्ट्रोक इंजन से 50% अधिक होता है, और इसलिए 4-स्ट्रोक इंजन भारी होता है।

कौन सा इंजन कम प्रदूषण पैदा करता है, 2-स्ट्रोक या 4-स्ट्रोक? 

2-स्ट्रोक इंजन 4-स्ट्रोक इंजन की तुलना में अधिक प्रदूषण पैदा करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि 2-स्ट्रोक इंजन ईंधन के सक्शन और एग्जॉस्ट के लिए पोर्ट्स का उपयोग करता है।

कौन सा इंजन तेज है, 2 स्ट्रोक या 4 स्ट्रोक?

2-स्ट्रोक इंजन में 4-स्ट्रोक इंजन की तुलना में निचले हिस्से होते हैं। इसकी तुलना में, एक टू-स्ट्रोक इंजन फोर-स्ट्रोक इंजन की तुलना में तेजी से एक कार्य चक्र (पिस्टन के सिर्फ 2 स्ट्रोक में) पूरा करता है। इसलिए, 2-स्ट्रोक इंजन 4-स्ट्रोक इंजन की तुलना में तेज़ होता है।

क्या 6-स्ट्रोक इंजन होता है?

एक 6-स्ट्रोक इंजन एक IC इंजन का सबसे आधुनिक संस्करण है जो 4-स्ट्रोक इंजन के डिज़ाइन पर आधारित है, लेकिन इस इंजन में उत्सर्जन को कम करने और दक्षता में सुधार करने के लिए दो अतिरिक्त इलेक्ट्रिक स्ट्रोक हैं। 6-स्ट्रोक इंजन दूसरे सक्शन के 5वें स्ट्रोक ब्रीथ के लिए ताजी हवा (वायुमंडल से स्वच्छ हवा) का उपयोग करता है।

अंत में 

हमनें इस लेख के माध्यम से आपको "4-स्ट्रोक इंजन क्या है? और यह कैसे काम करता है?" के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने प्रयास किया गया है, हमे पूरी उम्मीद है म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर कैसे बने यह जानकारी आपके लिये काफी उपयोगी साबित होगी। 

यदि इस आर्टिकल से सम्बन्धित आपके पास कोई सुझाव हो तो कमेंट बाक्स के माध्यम से आप उसे हम तक पंहुचा सकते है। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद!

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

HindiWebBook

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Post a Comment

Plz do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post